Sunday, January 4, 2009

हम ही थे हमारे साथ

ये हम ही थे` हमारे पास
जब भी हम रोए , किसी दुसरे के कंधे की उम्मीद की ,
पर अपने उपर ही रोए
थे हम ही हमारे साथ
सुबह शाम पूजा करने लगे ,
सच भी तो था ,केवल हम ही थे हमारे पास ,
मन के दुसरे भाग ने ,
जितनी ज्यादा साथ की चाह की ,
उतने अकेले होते चले गये ,
उतने अकेले की कभी -कभी ,
अपना पास भी छूट गया ,
अपने आप में इतना उलझे की ,
कुछ दूसरा काम ही नही
अपने लिए कुछ ना किया , तो पाते कहा से ,
अब एक चीज की चाह है
हम होऊ हमारे जुड़े हाथ हो`ओ और तुम्हारे चरण हो
हम हों हमारे साथ औरहो इसी चाह के साथ
जो आस तुमसे जोड़ी है , देखो तोड़ न देना ,
जब अंत होगा , तब ह म होगे हमारे साथ
जलेगे -बरेगे तो हमी होगे हमारे साथ ,
जब आए थे तो कौन था हमारे साथ ,
हमही थे अपने रोने -हसने को ,
सिर्फ़ हमही थे हर बार अपने साथ

इती

9 comments:

  1. स्वागत भुवनेश्वरी जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  3. मेरे मित्र
    अभिवंदन
    आप द्वारा लिखित बातो ने मेरे दिल को छु लिया। अति सुन्दर॥॥॥।
    मेरे ब्लोग को देखे।
    jai ho magalmay ho

    ReplyDelete
  4. kafi achcha likha hai.
    kabhi yaha bhi aaye...
    http://jabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. ब्लोगिंग की दुनिया में आपका स्वागत है. मेरी कामना है की आपके शब्दों को नई ऊंचाइयां और नए व गहरे अर्थ मिलें और विद्वज्जगत में उनका सम्मान हो.
    कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर एक नज़र डालने का कष्ट करें.
    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर.

    ReplyDelete
  6. आपका स्वागत। लिखना जारी रहे।

    ReplyDelete
  7. bahut sunder Bhuvneshwari ji..

    sach hi hai..hum hi hai humare paas...

    badhai!!



    shailja

    ReplyDelete
  8. रसात्मक और सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. Dhanyawad sabhi mitro ko
    Maffi chahti hun der se jawab dene ka
    abb se koshish hai samay par apke vichar lene ki aur kuch likhne ki!

    ReplyDelete